अल्लाह


अल्लाह: एक सर्वशक्तिमान ईश्वर

अल्लाह एक सर्वशक्तिमान ईश्वर हैं जिन्हें इस्लाम धर्म के अनुसार यूनिक होने की प्रमाणित पहचान है। अल्लाह को वह एकमात्र ईश्वर माना जाता है जिनके अलावा कोई और ईश्वर नहीं है। वे दुनिया की सृजनहारी, पालक और संहारक भी हैं। अल्लाह को इस्लामिक विश्वास की आधारभूत मूल्यों, तर्क और तथ्यों के आधार पर पूजनीय एवं प्रमाणित माना जाता है।

अल्लाह का अर्थ और महत्व

शब्द “अल्लाह” अरबी भाषा से लिया गया है और इसका अर्थ है “ईश्वर” या “अल्लाह के सिवाय कोई और नहीं”। इस्लाम धर्म में अल्लाह का यह नाम व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है और इसे इस्लाम के प्रतिष्ठित धर्मग्रंथ, कुरान में बार-बार उल्लेख किया गया है। अल्लाह के नाम में गहरा मान्यतावादिता और अद्वैत सिद्धांत है, जो इसके महत्व को और अधिक बढ़ाता है। यह नाम इस्लामी जनसंख्या के लाखों लोगों द्वारा सारे विश्व में प्रयोग में लाया जाता है और उन्हें यह महसूस होता है कि यह नाम उनके धार्मिक और आत्मिक संपन्नता को प्रकट करता है।

अल्लाह के गुण

अल्लाह के गुण और गुणधर्म को बताने के लिए विभिन्न अद्वैतीय वैदिक मत एवं इस्लामिक शास्त्रों में विस्तृत वर्णन दिया गया है। कुरान में अल्लाह को विभिन्न नामों से संबोधित किया गया है, जिनमें से कुछ नाम निम्नलिखित हैं:

  1. रब्ब – अल्लाह को “रब्ब” कहा जाता है, जो दुनिया की सृजनहारी और पालक होते हैं। वे सभी प्राणियों की देखभाल करते हैं और समस्त ब्रह्मांड का पालन करते हैं।
  2. खलीक – यह नाम अल्लाह को दर्शाता है कि वे सभी चीजों के सृजनकर्ता हैं और सबका निर्माण करते हैं।
  3. जब्बार – अल्लाह को “जब्बार” कहा जाता है, जिसका अर्थ है शक्तिशाली और अद्वैतीय। वे सबका नियंत्रण करते हैं और सबका अधिकारी होते हैं।
  4. दयालु – अल्लाह बहुत दयालु हैं। वे हमारे दुखों, संकटों और समस्याओं में हमारी सहायता करते हैं और हमें आशीर्वाद देते हैं।
  5. रहीम – अल्लाह को “रहीम” कहा जाता है, जो दयालुता और करुणा से परिपूर्ण होते हैं। वे हमेशा हमारे प्रति कृपा और स्नेह दिखाते हैं।

इन गुणों के माध्यम से, अल्लाह ने अपनी प्रेम, सहानुभूति और सामर्थ्य की प्रमाणित कहानी दी है और हमें इन्हें अपने जीवन में अनुसरण करने की सलाह दी है।

अल्लाह की पूजा और भक्ति

इस्लाम धर्म में, अल्लाह की पूजा और भक्ति धार्मिक आदर्शों और मार्गदर्शन के अनुसार की जाती है। भक्ति और पूजा का अर्थ है अल्लाह के प्रति आदर्श भावना, आत्मनिर्भरता, शुद्धता, ईमानदारी, और पूर्ण आत्मनिष्ठा के साथ कार्य करना। भक्ति के माध्यम से हम अपने मन, शरीर और आत्मा को अल्लाह के प्रति समर्पित करते हैं और उनके धर्मिक आदर्शों को पालन करते हैं। यह भक्ति और पूजा हमें अल्लाह के साथ सम्पर्क बनाने, उनकी कृपा को प्राप्त करने और आध्यात्मिक विकास को प्रोत्साहित करने में मदद करती है।

इस्लाम में अल्लाह के नामों का महत्व

इस्लाम में, अल्लाह के नामों का महत्व अत्यंत महत्वपूर्ण है। यह नाम हमें अल्लाह की महिमा, अद्वैतता, और उनके गुणों को स्मरण करने की स्मृति देता है। जब हम अल्लाह के नामों का जाप करते हैं, तो हमारी मनसिक और आध्यात्मिक संपन्नता में वृद्धि होती है। हम अपनी आत्मा को पवित्र और शुद्ध मानकर अपने जीवन को अल्लाह के ध्यान में समर्पित करते हैं।


Posted

in

by

Tags: